मानक और प्रमाणन (एस एंड सी)

मुख्य पृष्ठ - विभाग - मानक और प्रमाणन (एस एंड सी)

परिचय+

भारतीय पवन ऊर्जा क्षेत्र औद्योगिक गतिविधियों की मुख्य धारा में निजी पवन ऊर्जा क्षेत्र की सक्रिय भागीदारी के साथ विकसित हो रहा है। लगभग 9 पवन ऊर्जा टरबाइन निर्माता / आपूर्तिकर्ता विदेशी सहयोग के साथ संयुक्त उद्यम या प्रौद्योगिकी हस्तांतरण व्यवस्था के माध्यम से भारत में पवन ऊर्जा टरबाइन संस्थापित कर रहे हैं। इन निर्माताओं / आपूर्तिकर्ताओं के द्वारा, कुछ अपवादों को छोड़ कर, प्रायः उनके नियंत्रक कार्यालय द्वारा प्रदान किए गए पवन ऊर्जा टरबाइन-प्रकारों की आपूर्ति की जाती है, जिन्हें मान्यता प्राप्त प्रमाणन निकायों द्वारा प्रमाणित किया जाता है। यद्यपि, ये प्रमाणपत्र यूरोपीय क्षेत्र की स्थितियों और अनुमोदन योजनाओं / देश के तकनीकी मानदंडों, जिनमें वे दिए जाते हैं, उनके आधार पर ज़ारी किए जाते हैं। उपर्युक्त के अतिरिक्त, भारत में संस्थापित पवन ऊर्जा टरबाइन भारतीय स्थितियों के अनुरूप प्रमुख / साधारण परिवर्तन के पश्चात ज़ारी किए जाते हैं। सभी प्रमुख हितधारकों के द्वारा भारत में प्रमाणन सुविधा संस्थापित करने की आवश्यकता व्यक्त की गई है। तदनुसार, नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय ने DANIDA, डेनमार्क की तकनीकी सहायता और आंशिक वित्तीय सहायता के साथ राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संस्थान में एक मानक और प्रमाणन (एसएंडसी) एकक की स्थापना की है। RISO राष्ट्रीय प्रयोगशाला, डेनमार्क ने भारत में प्रमाणन विशेषज्ञता संस्थापित करने हेतु तकनीकी परामर्शदाता के रूप में कार्य किया है।

सेवाएं+
  • भारत में पवन ऊर्जा टरबाइन प्रमाणन प्रणाली विकसित और कार्यान्वित करना।
  • पवन ऊर्जा टरबाइन-प्रकार का पवन ऊर्जा टरबाइन-प्रकार प्रमाणन करने के लिए - अनंतिम योजना - टीएपीएस -2000 (संशोधित) के अनुसार अनुमोदन करना।
  • पवन ऊर्जा टरबाइन हेतु भारतीय मानक तैयार करना।
  • पवन ऊर्जा टरबाइन के मॉडल और निर्माता (आरएलएमएम) की समय-समय पर संशोधित सूची तैयार करना और ज़ारी करना।
पवन ऊर्जा टरबाइन-प्रकार अनुमोदित - अनंतिम योजना - टीएपीएस -2000 (संशोधित)+

भारतीय परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए, टीएपीएस -2000 (संशोधित), पवन ऊर्जा टरबाइनों के लिए, अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप, एकक द्वारा भारतीय प्रमाणीकरण योजना तैयार की गई है। उपर्युक्त योजना नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के द्वारा अनुमोदित और ज़ारी की गई है।

टीएपीएस -2000 (संशोधित) के अनुसार, अनंतिम पवन ऊर्जा टरबाइन-प्रकार प्रमाणन (पीटीसी) पद्धति को निम्नलिखित तीन वर्गों में विभाजित किया गया है:

वर्ग-I : पवन ऊर्जा टरबाइन प्रमाणपत्र या अनुमोदन, जिन्हें अनंतिम पवन ऊर्जा टरबाइन-प्रकार प्रमाणन (पीटीसी) प्रमाणपत्र या अनुमोदन पूर्व में ही प्राप्त है।

वर्ग-II :पवन ऊर्जा टरबाइन प्रमाणपत्र या अनुमोदन, जिन्हें अनंतिम पवन ऊर्जा टरबाइन-प्रकार प्रमाणन (पीटीसी) प्रमाणपत्र या अनुमोदन पूर्व में ही प्राप्त है; जिसके अंतर्गत राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संस्थान के परीक्षण क्षेत्र / क्षेत्र में अनंतिम पवन ऊर्जा टरबाइन-प्रकार परीक्षण / मापन भी हैं।

वर्ग-III : पवन ऊर्जा टरबाइन प्रमाणपत्र या अनुमोदन, उन्हें जो पवन ऊर्जा टरबाइन नवीन हैं या जिनमें अर्थपूर्णयुक्त/ महत्वपूर्ण रूप से संशोधन किया गया हो; जिसके अंतर्गत राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संस्थान के परीक्षण क्षेत्र / क्षेत्र में अनंतिम पवन ऊर्जा टरबाइन-प्रकार परीक्षण / मापन भी हैं।

डाउनलोड+
टीएपीएस 2000 – संशोधित
सम्पूर्ण परियोजनाओं की सूची