चार्टर

मुख्य पृष्ठ - हमारे विषय में - चार्टर

राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संस्थान की स्थापना नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के द्वारा की गई है और यह संस्थान पवन ऊर्जा प्रौद्योगिकियों के लिए एक तकनीकी केंद्र बिंदु है। इसकी स्थापना वर्ष 1998 में चेन्नई में की गई थी। और, डेनिडा, डेनमार्क सरकार का एक निकाय, की तकनीकी तथा आंशिक वित्तीय सहायता से, एक पवन ऊर्जा टरबाइन परीक्षण केंद्र की स्थापना तमिलनाडु, कायथर में की गई है।

राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संस्थान एक उच्च गुणवत्ता और समर्पण युक्त ज्ञान आधारित संस्थान है जो कि पवन ऊर्जा क्षेत्र के संपूर्ण परिदृष्य में सेवाएं प्रदान करता है और प्रमुख हितधारकों के लिए पूर्ण समाधान ढूंढने का प्रयास करता है। यह पवन ऊर्जा टरबाइन उद्योग जगत को गुणवत्ता प्राप्त करने और उसे सशक्त बनाए रखने में इस प्रकार सहायता करेगा कि पवन क्षेत्र में उपलब्ध अधिकतम ऊर्जा का दोहन कर सर्वोच्च गुणवत्ता और विशवसनीयता युक्त उत्पाद प्राप्त किए जा सकें। राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संस्थान जानकारी और जिज्ञासा को विकसित करने तथा उत्पादों एवं सेवाओं के निर्यात को बढ़ावा देने के लिए पवन ऊर्जा उद्योग जगत को पर्याप्त सहायता उपलब्ध कराएगा।

उद्देश्य

  • भारत में पवन ऊर्जा विद्युत के विकास, पवन ऊर्जा के उपयोग की गति को बढ़ावा देने तथा इसमें गति लाने और देश में विकासाशील पवन ऊर्जा विद्युत क्षेत्र को सहायता प्रदान करने के लिए तकनीकी केंद्र बिंदु के रूप में कार्य करना।
  • पवन ऊर्जा विद्युत प्रणालियों में विश्वसनीय और लागत प्रभावी प्रौद्योगिकी प्राप्त करने और इसे बनाए रखने के लिए सुविधाओं एवं क्षमताओं को विकसित और सुदृढ़ बनाना, कार्यनीतियाँ तैयार करना, अनुसंधान और विकास कार्यक्रमों का संवर्द्धन, संचालन, समन्वय और सहायता प्रदान करना।
  • संसाधनों से उपलब्ध आंकड़ों के आधार पर पवन ऊर्जा संसाधनों का विश्लेषण और ऑकलन करना तथा पवन ऊर्जा घनत्व मानचित्र/ पवन ऊर्जा एटलस / संदर्भ पवन ऊर्जा आंकड़े तैयार करना।
  • पवन ऊर्जा प्रणालियों के परीक्षण और प्रमाणीकरण, उप-प्रणालियों और घटकों के लिए भारतीय परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अनुशंसित प्रथाओं और मानकों के अनुरूप इसे अद्यतन करने के आधार पर प्रतिक्रिया, दिशानिर्देशों, प्रक्रियाओं, अभिकल्प के लिए प्रोटोकॉल सहित मानक तैयार करना और उन्हें कार्यान्वयन एवं स्थापित करवाना।
  • विश्व स्तर की सुविधाओं की स्थापना करना, संपूर्ण पवन ऊर्जा विद्युत प्रणालियों एवं घटकों का परीक्षण अंतर्राष्ट्रीय रूप से स्वीकार्य परीक्षण प्रक्रियाओं एवं मानदंडों के अनुसार संचालित और समन्वित करना, समग्र कार्यनिष्पादन, जिसमें विद्युत निष्पादन, विद्युत गुणवत्ता, ध्वनि स्तर, गतिकी, प्रचालन और सुरक्षा प्रणालियाँ शामिल हैं, जिनका परीक्षण सहमत नयाचारों के अनुसार किया जाता है; इन्हें कार्यान्वयन एवं स्थापित करवाना।
  • पवन ऊर्जा टरबाइनों–प्रकार अनुमोदन / प्रमाणन प्रदान करने के लिए मानकों, दिशानिर्देशों और अभिकल्पों, प्रचालन और रखरखाव के लिए अन्य नियमों के साथ-साथ विद्युत निष्पादन, ध्वनि, जीवन प्रत्याशा और विश्वसनीयता जैसे गुणवत्ता के विषयों के पर्याप्त प्रलेखन के अनुसार सुरक्षा संबंधी आवश्यकताओं के अनुरूप, अनुमोदन/ प्ररूप प्रमाणन प्रदान करवाना।
  • पवन ऊर्जा विद्युत प्रणालियों, उप-प्रणालियों और घटकों के क्षेत्र के निष्पादन की निगरानी करने के लिए, उपर्युक्त उद्देश्य और प्रमाणीकरण के विषय की पूर्ति के लिए प्रभावी रूप से इस प्रतिपुष्टि का उपयोग करना, निरंतर आँकड़ा बैंक अद्यनित / स्थापित करना और, प्रमुख एवं महत्वपूर्ण के प्रसार हेतु सूचना केंद्र के रूप में कार्य करना।
  • पवन ऊर्जा क्षेत्र में कार्यरत कर्मियों के लिए मानव संसाधन विकास कार्यक्रम आयोजित करना।
  • वाणिज्यिक क्षेत्र में ज्ञान / जानकारियों को प्रोत्साहन देना , ग्राहकों को आवश्यकता के अनुरूप एवं परिणाम आधारित विभिन्न परामर्श सेवाएं प्रदान करना।
  • स्टैंड-अलोन प्रणालियों सहित किसी भी अन्य पवन ऊर्जा प्रणालियों के विकास और वाणिज्यीकरण को प्रोत्साहन / बढ़ावा देना।