17वाँराष्ट्रीय प्रशिक्षण पाठ्यक्रम

मुख्य पृष्ठ - विभाग - कौशल विकास और प्रशिक्षण - राष्ट्रीय प्रशिक्षण - 17वाँराष्ट्रीय प्रशिक्षण पाठ्यक्रम

संक्षिप्त प्रतिवेदन
पवन ऊर्जा प्रौद्योगिकी
कार्यक्रम आयोजन की अवधि : 18 मार्च से 20 मार्च 2015s

राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संस्थान के सूचना, प्रशिक्षण और अनुकूलित सेवाएं एकक के द्वारा "पवन ऊर्जा प्रौद्योगिकी" विषय पर, भारत सरकार के नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के द्वारा समर्थित, दिनांक 18 मार्च से 20 मार्च 2015 की अवधि में, राष्ट्रीय प्रशिक्षण पाठ्यक्रम का सफलतापूर्वक आयोजन किया गया। इस राष्ट्रीय प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में पवन ऊर्जा विद्युत संबंधित विधाएं; पवन ऊर्जा संसाधन निर्धारण और पवन ऊर्जा परियोजना कार्यांवयन और प्रचालन एवं रखरखाव संबंधी विभिन्न विषयों पर मुख्य ध्यान केंद्रित किया गया। उपर्युक्त राष्ट्रीय प्रशिक्षण पाठ्यक्रम से 43 प्रतिभागी लाभांवित हुए। प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में देश के 13 राज्यों के, अकादमिक संस्थान, उद्योग जगत, राज्य नोडल एजेंसियां, विकासकर्ता, परामर्शदाता आदि, प्रतिभागी उपस्थित हुए थे। प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में विविध विधाओं के 37 पुरुष और 6 महिला प्रतिभागी थे। प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के व्याख्यान पवन ऊर्जा विषय के विशेषज्ञ वैज्ञानिकों / अभियंताओं के द्वारा दिए गए। प्रशिक्षण पाठ्यक्रम का उद्घाटन, चेन्नई स्थित गमेशा विंड टर्बाइन प्राइवेट कम्पनी के सहायक उपाध्यक्ष डॉ. ई. श्रीवलसन, के द्वारा किया गया।

प्रशिक्षण पाठ्यक्रम कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए डॉ. ई. श्रीवलसन

उपर्युक्त प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के लिए, पाठ्यक्रम सामग्री, व्याख्याताओं के द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले व्याख्यानों / सार-लेखन का संकलन विशेष रूप से प्रतिभागियों के लाभ के लिए विशेष सामग्री के रूप में तैयार किया गया। प्रशिक्षण पाठ्यक्रम सामग्री पुस्तिका का विमोचन मुख्य अतिथि के द्वारा किया गया।

पाठ्यक्रम सामग्री पुस्तिका का विमोचन करते हुए डॉ. ई. श्रीवलसन

प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के निर्धारित 24 विषयों पर पवन ऊर्जा प्रौद्योगिकी केंद्र के16 वैज्ञानिक / अभियंताओं और पवन ऊर्जा उद्योग, अकादमिक संस्थानों, पवन ऊर्जा टरबाइन निर्माणकर्ता, पवन ऊर्जा टरबाइन क्षेत्र विकासकर्ता, परामर्शदाता, सुविधाओं, आईपीपी आदि बाह्य क्षेत्रों से 8 अनुभवी विशेषज्ञों ने व्याख्यान दिए।

उपर्युक्त प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में निम्नलिखित विषयों पर व्याख्यान दिए गए:

  • Iपवन ऊर्जा प्रौद्योगिकी - एक परिचय
  • पवन ऊर्जा संसाधन निर्धारण और तकनीक
  • पवन ऊर्जा टरबाइन क्षेत्र लेआउट और अभिकल्प
  • पवन ऊर्जा टरबाइन घटक
  • पवन ऊर्जा टरबाइन ब्लेड की वायुगतिकी - एक परिचय
  • पवन ऊर्जा टरबाइन – गियर बॉक्स
  • पवन ऊर्जा टरबाइन –प्रकार और विद्युत जेनरेटर
  • पवन ऊर्जा टरबाइन प्रणाली की नियंत्रण और सुरक्षा प्रणाली
  • पवन ऊर्जा टरबाइन टॉवर अवधारणाएं
  • पवन ऊर्जा टरबाइन फाउंडेशन अवधारणाएं
  • पवन ऊर्जा टरबाइन –प्रकार प्रमाणन और मानक
  • पवन ऊर्जा टरबाइन परीक्षण
  • पवन ऊर्जा टरबाइन क्षेत्रों का विकास और संबंधित विषय
  • पवन ऊर्जा विद्युत परियोजना – आर्थिक विश्लेशण
  • पवन ऊर्जा टरबाइन संस्थापना और प्रचालन
  • पवन ऊर्जा टरबाइन क्षेत्र प्रचालन और रखरखाव
  • पवन ऊर्जा विकास में राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संस्थान की भूमिका
  • पवन ऊर्जा रूपांतरण प्रणाली - पवन ऊर्जा विद्युत एवं अल्पीकरण तकनीक
  • पवन ऊर्जा विद्युत उत्पादन
  • पवन ऊर्जा विद्युत पूर्वानुमान
  • लघु पवन ऊर्जा टरबाइन और वर्ण संकर प्रणाली
  • अपतटीय पवन ऊर्जा
  • भारत सरकार की नीतियां और योजनाएं
  • NAPCC, RPO, REC & CDM का अध्ययन

प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के समापन समारोह में, राष्ट्रीय समुद्र प्रौद्योगिकी संस्थान की मुख्य वैज्ञानिक, डॉ. पूर्णिमा जलीहाल, मुख्य अतिथि थी। अपने समापन समारोह के भाषण के पश्चात उन्होंने सभी प्रतिभागियों को प्रशिक्षण पाठ्यक्रम प्रमाण पत्र प्रदान किए।

प्रशिक्षण पाठ्यक्रम प्रमाण पत्र प्रदान करते हुए डॉ. पूर्णिमा जलीहाल

उपर्युक्त प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के प्रतिभागियों से प्रशिक्षण के विभिन्न पहलुओं पर प्रशिक्षण प्रतिक्रिया एकत्रित की गई, प्रतिभागियों के द्वारा प्रतिक्रिया में 50 प्रतिशत उत्कृष्ट, 33 प्रतिशत अच्छा और 17 प्रतिशत संतोषजनक, प्रदर्शित किया गया है।

प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के प्रतिभागियों के द्वारा प्रशिक्षण पाठ्यक्रम की संरचना, संगठानात्मकता, बौद्धिक स्तर, आतिथ्य और आयोजन क्षमता की अत्यधिक प्रशंसा की गई।

डाउनलोड:ब्रोशर