24 वाँ राष्ट्रीय प्रशिक्षण पाठ्यक्रम

मुख्य पृष्ठ - विभाग - कौशल विकास और प्रशिक्षण - राष्ट्रीय प्रशिक्षण - 24 वाँ राष्ट्रीय प्रशिक्षण पाठ्यक्रम

संक्षिप्त रिपोर्ट
24 वाँ राष्ट्रीय प्रशिक्षण पाठ्यक्रम
कार्यक्रम आयोजन की अवधि : 10 फरबरी से 14 फरबरी 2020 तक

राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संस्थान में कौशल विकास और प्रशिक्षण प्रभाग के द्वारा "पवन ऊर्जा संसाधान निर्धारण" विषय पर, भारत सरकार के नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के द्वारा समर्थित, दिनांक 10 फरबरी से 14 फरबरी 2020 की अवधि में, राष्ट्रीय प्रशिक्षण पाठ्यक्रम का सफलतापूर्वक आयोजन किया गया। राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संस्थान के महानिदेशक डॉ. के. बलरामन के द्वारा, प्रशिक्षण पाठ्यक्रम समन्वयक और कौशल विकास एवं प्रशिक्षण प्रभाग के प्रमुख की उपस्थिति में, प्रशिक्षण पाठ्यक्रम का उद्घाटन दीप प्रज्वलित करने के साथ किया गया ।

24 वें राष्ट्रीय प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में देश के 6 राज्यों ( गुजरात, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश ) के विभिन्न विधाओं के 13 प्रतिभागी उपस्थित हुए और प्रशिक्षण पाठ्यक्रम से लाभांवित हुए।

राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संस्थान के महानिदेशक डॉ. के. बलरामन प्रशिक्षण पाठ्यक्रम का उद्घाटन दीप प्रज्वलित के साथ करते हुए।

उपर्युक्त राष्ट्रीय प्रशिक्षण पाठ्यक्रम का शुभारम्भ, पवन ऊर्जा प्रौद्योगिकी और पवन ऊर्जा संसाधन निर्धारण की विभिन्न विधाओं, पवन ऊर्जा संसाधन निर्धारण तकनीक, संस्थापना, उपकरणीकरण, पवन ऊर्जा टरबाइन निगरानी स्टेशनों (डब्ल्यूएमएस) के लिए क्षेत्र चयन, पवन ऊर्जा टरबाइन निगरानी स्टेशनों के उपकरणीकरण और संस्थापना, मौसम मस्तूल, रिमोट सेंसिंग उपकरण (SODAR & LiDAR), आँकडा संग्रहण, विश्लेषिकी और प्रसंस्करण, पवन ऊर्जा उपकरण विश्लेषण के उपयोग हेतु सॉफ़्टवेयर उपकरण , पवन ऊर्जा टरबाइन क्षेत्र के अभिकल्प और लेआउट, पवन ऊर्जा संसाधन मानचित्रण, पूर्वानुमान और पवन ऊर्जा उत्पादन के लिए प्रयोग किए जाने वाले उपकरण आदि आधुनिक तकनीकों सहित विभिन्न विषयों पर विस्तृत विचार-विमर्श के साथ किया गया। ।

राष्ट्रीय प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के अंतर्गत प्रयोगशालाओं में क्षेत्र चयन, मस्तूल संस्थापना और सेंसर के उपकरण, आँकड़ा संग्रहण तथा इनके सत्यापन, प्रसंस्करण, विश्लेषण और रिपोर्टिंग आदि व्यावहारिक प्रशिक्षण व्यवस्थित किए गए थे।

उपर्युक्त प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के लिए, पाठ्यक्रम सामग्री, व्याख्याताओं के द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले व्याख्यानों / सार-लेखन का संकलन विशेष रूप से प्रतिभागियों के लिए संदर्भ सामग्री एवं लाभ हेतु विशेष सामग्री के रूप में तैयार किया गया।

प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में व्याख्याताओं के द्वारा प्रस्तुत किए गए 9 व्याख्यान और 11 व्यवाहारिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम आयोजित किए गए, जो कि राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संस्थान के 14 अभियंताओं और एक बाह्य विशेषज्ञ की उपर्युक्त प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में व्याख्याताओं की विशेषता थी ।

उपर्युक्त प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में निम्नलिखित विषयों पर व्याख्यान दिए गए:

  • पवन ऊर्जा प्रौद्योगिकी
  • पवन ऊर्जा संसाधन निर्धारण - एक परिचय
  • पवन ऊर्जा संसाधन निर्धारण और तकनीक
  • पवन ऊर्जा टरबाइन निगरानी स्टेशन का क्षेत्र चयन
  • पवन ऊर्जा टरबाइन निगरानी स्टेशन की संस्थापना, उपकरणीकरण और संचालन
  • पवन ऊर्जा संसाधन मानचित्र और एटलस
  • मौसम मस्तूल और आधुनिक मापन तकनीक सहित रिमोट सेंसिंग उपकरण (SODAR & LiDAR)
  • आँकड़ा वैश्लेषिकी और प्रक्रमण संसाधन
  • पवन ऊर्जा आँकड़ा वैश्लेषिकी उपयोग हेतु सॉफ्टवेयर उपकरण
  • पवन ऊर्जा टरबाइन क्षेत्र हेतु अभिकल्प और लेऑउट
  • पूर्वानुमान और पवन ऊर्जा उत्पादन

प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के प्रतिभागियों को, प्रशिक्षण सत्र के अंतर्गत व्यावहारिक अनुभव हेतु राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संस्थान परिसर में वर्ण संकर, पवन ऊर्जा – सौर ऊर्जा – डिज़ल प्रणाली की कार्यांवयन पद्धति को समझने और उपलब्ध सुविधाओं को समझने हेतु अध्ययन भ्रमण करवाया गया।

प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के समापन समारोह में मुख्य अतिथि, होंडुरास, ऊर्जा सचिवालय के श्री रॉबर्टो अल्फोंसो ज़पाटा क्विरोज़ थे। अपने समापन समारोह के भाषण के पश्चात उन्होंने सभी प्रतिभागियों को प्रशिक्षण पाठ्यक्रम प्रमाण पत्र प्रदान किए।

प्रशिक्षण पाठ्यक्रम प्रमाण पत्र प्रदान करते हुए मुख्य अतिथि
डाउनलोड: ब्रोशर